VR Logo

जोएल ग्रीनब्लाट की निवेश पर राय

निवेश पर जोएल की एक चर्चित बातचीत पर आधारित

जोएल ग्रीनब्लाट अपनी चर्चित किताब, ‘यू कैन बी अ स्टॉक मार्केट जीनियस’ और ‘द लिटिल बुक दैट बीट्स द मार्केट’ के लिए जाने जाते हैं। वैल्यू इन्वेस्टर और गॉथम फंड चलाते वाले जोएल ग्रीनब्लाट कोलंबिया बिज़नस स्कूल में वैल्यू और ‘स्पेशल सिचुएशन इन्वेस्टिंग’ पढ़ाते हैं। यहां हम, उनकी 2021 की बातचीत पर एक नज़र डाल रहे हैं, जिसका विषय है, ‘क्या बातें एक ग्रेट इन्वेस्टर बनाती है’ ()।


अपना नज़रिया ठीक करें
ज़्यादातर ये माना जाता है कि स्टॉक की कीमत, कंपनी की सही तस्वीर बताती है। हालांकि, ये हमेशा सही नहीं होता। किसी कंपनी को देखने के नज़िरए में बदलाव, काफ़ी मददगार साबित हो सकता है। ग्रीनब्लाट कहते हैं, “जब आप पहचान लेते हैं कि आपके पास (निवेश के अवसरों को पहचानने का) एक और नज़रिया है, और ये बेहतर तरीके से समझ में आने वाले हैं, और इस नज़िरए से देखने पर (तस्वीर के) सभी टुकड़े फ़िट बैठते हैं, तो मेरे ख्याल से, ये अवसर बहुत अच्छे होते हैं।” जहां दूसरे एफएमसीजी (FMCG) प्लेयर कहीं ऊंचा वैलुएशन पाते हैं, वहीं आईटीसी (ITC) का पी/ई 18-20, के आस-पास ही रहता है, क्योंकि इसे अब भी एफएमसीजी कंपनी के तौर पर नहीं, बल्कि तंबाखू कंपनी के तौर पर देखा जाता है।


अपनी गलतियां कैसे सुधारें?
समय एक ऐसा संसाधन है, जो हममें से हर एक के लिए सीमित है। हम उतना ही सीख सकते हैं जितना हम इस सीमित समय में अनुभव कर पाते हैं। हालांकि, सीखने का बेहतर तरीका दूसरों की गलतियों से सीखने का होता है। ग्रीनब्लाट इसके बारे में कहते हैं, “जितना ज़्यादा आप दूसरों की गलतियों से सीखते हैं, और जितना आप जानते हैं और अपने अनुभव से सीखते हैं, और पढ़ते हैं कि स्मार्ट लोग कैसे सोचते हैं, ये आपकी मदद ही करता है।” सफल और स्मार्ट लोगों की जीवनियां पढ़ने से आपको उनकी गलतियों से सीखने में मदद मिलती है, ताकि आप उन गलतियों को दोहराएं नहीं जब आपके सामने भी वैसी ही परिस्थितियां हों।


एसिमेंट्रिक रिटर्न

एसिमेंट्रिक रिटर्न या विषम रिटर्न वो कॉन्सेप्ट है, जहां बड़े फ़ायदे के मुकाबले, बड़े घाटे की संभावना काफ़ी कम होती है। इसे हासिल करने के लिए ग्रीनब्लाट बताते हैं कि, “मैंने जो सबसे बड़ी पोज़िशन (लंबी अवधि के निवेश) पाई वो उनमें से नहीं थीं जिनके बारे में मैंने पहले से अनुमान लगा लिया था कि ये पांच या दस गुना बढ़ेगा। मैं जब भी मैं कोई बड़ी पोज़ीशन लेता हूं, ज़्यादातर नीचे की तरफ़ ही देखता हूं, ऊपर नहीं। दूसरे शब्दों में कहें तो, मैं बड़ी पोज़ीशन हासिल करता हूं अगर मैं ये नहीं समझता कि मैं ज़्यादा पैसे गंवा दूंगा।”


बिज़नस का बदलता चेहरा
आजकल निवेशक, नए किस्म के बिज़नस में निवेश को ले कर उदासीन रहते हैं, क्योंकि ये बिज़नस आमतौर पर घाटे में होते हैँ। हालांकि, ग्रीनब्लाट एक अलग ही नज़रिया पेश करते हैं, “जिस तरह से बिज़नस की दुनिया बदली है उसमें, इनमें से ज़्यादातर बिज़नस अपने भविष्य में निवेश कर रहे हैं, मगर वो निवेश की तरह नहीं लगता। पहले निवेश एक फैक्ट्री बनाना होता था, या कोई बड़ी मशीन खरीदना होता था, और आप इसे बैलेंसशीट में देख सकते थे। मगर यहां (नई तरह के बिज़नस में) इसमें से काफ़ी कुछ खर्च के तहत दिखाई देता है।” इसका एक अच्छा उदाहरण अमेज़न प्राइम की सर्विस हो सकता है, जहां कंपनी कॉंटेंट पर इस उम्मीद में खर्च करती है कि यूज़र बढ़ सकें, और आगले चल कर इन यूज़र्स के अमेज़न पर शॉपिंग करने से जो फ़ायदा होगा, वो इस खर्च की भरपाई अपने आप कर देगा। हालांकि कॉंटेंट की लागत को खर्च के तौर पर ही दिखाया जाता है, न की कैपिटल-गेन के तौर पर।


मैनेजमेंट का आकलन
मैनेजमेंट निवेशकों को लुभाने के लिए अपने बिज़नस के भविष्य की एक शानदार और सुनहरी कहानी बता सकते हैं। हालांकि, मैनेजमेंट का आकलन करने का ग्रीनब्लाट का एक सरल सा नियम है। वो कहते हैं, “अगर मेरे आने (निवेश) से पहले, मैनेजमेंट टीम अपनी पूंजि का सही इस्तेमाल कर रही थी, तो ये अंदाज़ा लगाना कि वो इस अच्छे काम को जारी रखेंगे, एक सही अदाज़ हो सकता है।” किशोर बियानी, ने 2017 में अगले 30-साल का विज़न साझा किया। इसके मुताबिक साल 2047, तक उनकी कंपनी 1 ट्रिलियन डॉलर का रेवेन्यू हासिल करने वाली थी। हालांकि, कैपिटल के गलत इस्तेमाल से कंपनी को बेचने के लिए मजबूर होना पड़ा।